जमीन पर कब्जा करने की सजा क्या होती है

यदि कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति के जमीन पर अवैध तरीके से कब्जा करता है तो इसके लिए भारतीय कानून के तहत अलग-अलग नियम कानून बनाये गए हैं. जिसके अनुसार अवैध कब्जे की शिकायत सही साबित होने पर सरकार द्वारा उसे छुड़ाया जा सकता है. और अवैध कब्जा करने वाले व्यक्ति को भारतीय कानून के अनुसार निम्नलिखित साजा दी जाती है.

इसलिए कुछ एसे लोग होते है जो खुद का जमीन नही होते हुए भी कब्जा कर लेते है. और जमीन सही व्यक्ति के नाम पर साबित होने के बाद उन्हें क़ानूनी साजा मिलती है. इसलिए इस पोस्ट में पूरी जानकारी दिया गिया है. जमीन पर कब्जा करने की सजा क्या है. इसे फॉलो कर जमीन पर कब्जा करने की सजा के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते है.

जमीन पर कब्जे का प्रकार

जमीन पर लोग कई प्रकार से कब्जा करता है जो इस प्रकार है.

  • अवैध कब्जा
  • आपराधिक बलपूर्वक कब्जा
  • आक्रमणकारी कब्जा

सरकारी जमीन पर कब्जा करने की सजा

सरकारी जमीन पर कब्जा करने की साजा अलग अलग हो सकती है, जो इस प्रकार है:

अवैध कब्जा: यदि कोई व्यक्ति गैरकानूनी तरीके से सरकारी जमीन पर कब्जा कर लेता है, तो उसे भारतीय दंड संहिता IPC की धारा 441 के तहत 3 महीने तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकता है.

आक्रमणकारी कब्जा: यदि कोई व्यक्ति बलपूर्वक या धमकी देकर सरकारी जमीन पर कब्जा कर लेता है, तो IPC की धारा 448 के तहत उसे 3 साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकता है.

आपराधिक बलपूर्वक कब्जा: यदि कोई व्यक्ति सरकारी जमीन पर कब्जा करने के लिए किसी व्यक्ति को चोट पहुंचाता है या जान से मारने की धमकी देता है, तो IPC की धारा 332 के तहत उसे 3 साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकता है.

जमीन पर अवैध कब्जा करने की सजा

यदि कोई व्यक्ति किसी की जमीन पर बिना किसी कानूनी अधिकार के कब्जा कर लेता है, तो इसे अवैध कब्जा माना जाता है. इसलिए जमीन पर अवैध कब्जा करने पर भारतीय दंड संहिता IPC की धारा 447 के अनुसार, किसी की जमीन पर अवैध कब्जा करने पर 3 महीने तक की कैद या 550 रुपये तक का जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है. कुछ मामलों में, अन्य कानून भी लागू हो सकते हैं, जैसे कि भूमि अधिग्रहण अधिनियम, 1894 या राजस्व कानून.

जमीन पर आक्रमणकारी कब्जा करने की सजा

जमीन पर आक्रमणकारी कब्जा करने पर भारतीय दंड संहिता IPC की धारा 448 के तहत, जमीन पर आक्रमणकारी कब्जा करने की सजा निम्नलिखित हो सकती है.

  • कैद: 3 साल तक हो सकता है.
  • जुर्माना: अदालत द्वारा निर्धारित राशि
  • दोनों: कैद और जुर्माना हो सकता है.

आक्रमणकारी कब्जा का मतलब है कि बलपूर्वक या धमकी देकर जमीन पर कब्जा करना होता है. इसके लिए IPC की धारा 448 लगता है. यह धारा केवल निजी जमीन पर आक्रमणकारी कब्जा करने पर लागू होती है. और सरकारी जमीन पर कब्जा करने के लिए अलग कानून लगता हैं.

कृषि भूमि पर कब्जा करने की सजा

यदि किसी व्यक्ति ने कृषि भूमि पर कब्जा करता है तो भारतीय कानून के अनुसार निम्नलिखित साजा हो सकता है. जो इस प्रकार है:

  • यदि कोई व्यक्ति गैरकानूनी तरीके से कृषि भूमि पर कब्जा कर लेता है, तो उसे भारतीय दंड संहिता IPC की धारा 447 के अनुसार 3 महीने तक की कैद या 550 रुपये तक का जुर्माना या दोनों हो सकता है.
  • यदि कोई व्यक्ति बलपूर्वक या धमकी देकर कृषि भूमि पर कब्जा कर लेता है, तो IPC की धारा 448 के तहत उसे 3 साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकता है.
  • यदि कोई व्यक्ति कृषि भूमि पर कब्जा करने के लिए चोट पहुंचाता है या जान से मारने की धमकी देता है, तो IPC की धारा 332 के तहत उसे 3 साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकता है.

इससे भी पढ़े,

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: FAQs

Q. अवैध कब्जा करने पर कौन सी धारा लगती है?

किसी संपत्ति पर कोई व्यक्ति ने अवैध तरीके से कब्जा कर लिया है, तो भारतीय दंड संहिता की धारा 441 के तहत भूमि अतिक्रमण एक दंडनीय अपराध है. अवैध कब्जा करने पर भारतीय दंड संहिता IPC की धारा 447 के अनुसार, 3 महीने तक की कैद या 550 रुपये तक का जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है.

Q. सरकारी जमीन पर कब्जा करने से कौन सी धारा लगती है?

 सरकारी भूमि पर कब्जे करने वाले व्यक्ति के खिलाफ धारा 91 में केस दर्ज होता है. और उसे भारतीय दंड संहिता IPC की धारा 441 के तहत 3 महीने तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकता है.

Q. कोई जमीन पर कब्जा कर ले तो क्या करें?

यदि किसी व्यक्ति ने आपके जमीन पर कब्जा कर लिया है तो इसके लिए अपने नजदीकी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कर सकते है. जिसे पुलिस आपके जमीन से कब्जा हटाने के लिए क़ानूनी करवाई करेगी.

Leave a Comment