जमीन खरीदने से पहले क्या करना चाहिए: 5 जरुरी स्टेप्स जिसे जानना अवश्य है

जमीन खरीदना भारत का बहुत लोकप्रिय क़ानूनी प्रक्रिया है. जिसमे जमीन सम्बंधित सभी दस्तावेज को रजिस्ट्री ऑफिस में जमा कर एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति के नाम संपत्ति का दायित्व लिखा जाता है. जमीन खरीदारी की प्रक्रिया पूर्ण करने के लिए एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति के नाम जमीन रजिस्ट्री करने के लिए कई महत्वपूर्ण नियम को पूर्ण करना पड़ता है.

जमीन खरीदनें के लिए जमीन के पुराने स्वामी का दस्तावेज सावधानी पूर्वक जाँच करना चाहिए, जिससे यह सुनिश्चित हो कि जमीन का पूरा दायित्व किसी एक व्यक्ति के पास हो. जमीन की खरीदारी करने से पहले जमीन की जाँच करें. जिस जगह पर जमीन खरीद रहे है वहाँ जाकर जमीन का पूर्ण जानकारी प्राप्त करें.

जमीन खरीदने से पहले क्या करे और जमीन कैसे ख़रीदे की संपूर्ण जानकारी इस आर्टिकल में स्टेप by स्टेप बताई गई है. बताई गई प्रक्रिया जमीन खरीदने में आपकी मदद करेगा.

जमीन खरीदने से पहले क्या करना चाहिए?

  • किसी भी जमीन को खरीदने से पहले अपने बजट के अनुसार पैसा इकठ्ठा कर लेनी चाहिए.
  • आप जिस कारण जमीन खरीद रहे है उसपर शोध करें. उस जाँच से यह सुनिश्चित हो जायेगा की यह जमीन आपके काम के लिए लाभदायक है या नहीं.
  • जिस क्षेत्र में जमीन खरीद रहे है वहाँ की अर्थव्यवस्था, विकास की संभावनाएं और निवासियों के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें.
  • जमीन खरीदने से पहले उस जमीन के पास जाये और यह पता करे की वहाँ क्या सुविधाएँ है.
  • जमीन के मालिक के बारे में जाँच करें उस पर जमीन वैध कब्ज़ा है या नहीं और प्रॉपर्टी किसी लफड़े में तो नही है.
  • जमीन का जाँच करने के लिए जमीन का टाइटल चेक करें. जिससे यह सुनिश्चित होता है की जमीन विवादित है या नहीं.
  • जमीन खरीदने से पहले एक अच्छे वकील से सलाह लें की उस जमीन पर कोई क़ानूनी नियम से कोई समस्या नहीं है.

जमीन खरीदने से पहले दस्तावेज की जाँच करें

  • तैयार किया गया रजिस्ट्री शीट की जाँच करें.
  • जमीन खरीदने से पहले खतौनी की जाँच करें.
  • जमीन की स्थिति पता करने के लिए नक्शा की जाँच करें.
  • जमीन खरीदने से पहले नियम और शर्तों की समझौता की जाँच करें.

जमीन रजिस्ट्री की फीस कितनी है पता करें

  • किसी भी जमीन की रजिस्ट्री की जाती है, तो सबसे पहले जमीन का मूल्य निकाला जाता है. लेकिन जमीन रजिस्ट्री की फीस कितनी है. यह जमीन की मूल्य तय करने के बाद ही पता चलता है.
  • जमीन रजिस्ट्री की फीस क्षेत्र या स्थान पर निर्भर करता है.
  • जमीन का मूल्य पर रजिस्ट्री की फीस निर्भर करता है.
  • जमीन किस कार्य में या दान सम्बंधित कार्य में की जा रही है. इस पर भी जमीन रजिस्ट्री की फीस निर्भर करता है.
  • जमीन की स्तिथि पर भी जमीन रजिस्ट्री की फीस निर्भर करता है.

जमीन खरीदने के कानूनी नियम

भारत में जमीन खरीदने के लिए सरकारी नियम का पालन करना आवश्यक होता है. किसी भी जमीन को खरीदने के लिए दस्तावेजों की जाँच, तहसील, या कार्यालय में सरकारी नियम से करानी चाहिए, जिससे जमीन खरीदने में किसी प्रकार की कोई समस्या उत्पन्न न हो. जमीन खरीदने के कानूनी नियम निम्न है.

  • जमीन उचित मूल्य पर खरीदने के लिए सबसे पहले जमीन की खोज, जमीन का मूल्यांकन करना चाहिए.
  • खरीदनेवाले व्यक्ति को जमीन खरीदने से पहले विक्रेता को जमीन का मूल्य भुगतान करना चाहिए.
  • जमीन खरीदने के लिए जमीन की बिक्री नियम दस्तावेज पर हस्ताक्षर करना चाहिए.
  • जमीन खरीदने से पहले क्रेता द्वारा सभी डाक्यूमेंट्स की जाँच करनी चाहिए.
  • जमीन पर किसी प्रकार की कोई loan या रजिस्ट्री शीट, खतौनी, नक्शा, आदि की जाँच सावधानीपूर्वक करनी चाहिए.
  • जमीन की रजिस्ट्री करने के लिए स्टांप शुल्क और पंजीकरण शुल्क का भुगतान दस्तावेज चरण को पूरा करने के लिए करना चाहिए.
  • सभी प्रकिया सब रजिस्ट्रार के कार्यालय में की जाती है, जिसमे खरीदार और विक्रेता दोनों की अनुमति से जमीन रजिस्ट्री की प्रक्रिया पूरी की जाती है.

जमीन कैसे ख़रीदे

  • जमीन खरीदने के लिए सबसे पहले उस जमीन की जाँच करनी चाहिए जिसे आप खरीदना चाहते हैं.
  • इसके अलावे, जमीन के नजदीक एजेंट या लोगों से सलाह लें.
  • जाँच किए गए जमीन का मूल्य पता करे या रजिस्ट्रार ऑफिस से सलाह ले या जमीन का सही रेट पता करें.
  • जमीन का मूल्य कम से कम 10 से 20% विक्रेता को जमीन खरीदने से पहले देना चाहिए.
  • खरीदार और विक्रेता के बिच तैयार किया गया दस्तावेज पर हस्ताक्षर करें.
  • खरीदार को जमीन की सभी डॉक्यूमेंट जैसे, रजिस्ट्री शीट, खतौनी, नक्शा, पुरानि रसीद की जाँच करनी चाहिए.
  • जमीन के वैल्यू के हिसाब से सब रजिस्ट्रार द्वारा निर्धारित पैसे का भुगतान स्टांप शुल्क और पंजीकरण शुल्क का भुगतान करना चाहिए.
  • अंत: सभी प्रक्रिया पूरी करने के बाद सब-रजिस्ट्रार के कार्यालय में सभी दतावेज को जमा करें.
  • सब-रजिस्ट्रार के कार्यालय में जमीन की रजिस्ट्री एक से दो दिन के अन्दर कर दी जाती है.

Note: जमीन खरीदने से पहले क्या करना चाहिए की पूरी जानकारी ऊपर उपलब्ध है, जो किसी भी प्रकार के समस्या से बचने में मदद करेगा. उपरोक्त पांच स्टेप्स सभी को जमीन खरीदने से पहले फॉलो करना चाहिए.

जमीन खरीदने से पहले क्या चेक करना चाहिए

कोई भी जमीन खरीदने से पहले उस भूमि से जुड़े सभी जानकारी ऑनलाइन और नजदीकी कार्यालय से चेक करना चाहिए. जैसे;

  • जमीन की जमीन स्थिति चेक करे.
  • जमीन के दस्तावेजों की अच्छी तरह से जांच करें.
  • विक्रेता के बारे में जानकारी प्राप्त करें.
  • जमीन के विषय में वकील का राय ले.
  • उस इलाके के कानूनी नियमों की जानकारी प्राप्त करे.
  • जमीन की स्थिति यानि जमीन गिरवी है या नहीं.
  • जमीन के लोकेशन पर जाकर उसकी सत्यापन की जाँच करें.
  • अंत में जमीन से जुड़े सभी आवश्यक दस्तावेजो की जाँच करे.
    • कम्पलीशन और ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट
    • बिल्डिंग प्लान या साइट प्लान
    • Encumbrance Certificate
    • प्रॉपर्टी टैक्स का प्रूफ
    • प्रॉपर्टी के स्वामित्व का प्रमाण पत्र
    • जमीन का खसरा नंबर पता करें.
  • सबसे महत्वपूर्ण आप जिस स्थान पर जमीन खरीद रहे हैं वहां रेसिडेंशियल परमीशन है या नहीं, पता अवश्य करे.

इसे भी पढ़े:

जमीन की खरीदारी: FAQs.

Q. जमीन खरीदने से पहले क्या जाँच करें?

> सरकारी टैक्स की रसीद की जाँच करे
> गिरवी रखी गई भूमि की जांच करे.
> जमीन को मापे
> सब-रजिस्ट्रार के पास जाए
> पावर ऑफ अटॉर्नी चेक करे
> भूमि खरीद के लिए मूल दस्तावेजों की वेरिफिकेशन करे.
> टाइटल की करे जांच करे
> फ्लोर स्पेस इंडेक्स (FSI) चेक करे

Q. जमीन की जाँच कौन करता है?

जमीन की जाँच क़ानूनी आदेशों के अनुसार पटवारी करता है. यह जाँच करता है की कितना सौदा किया गया है और कितना जमीन का सेल डीड उल्लेख किया गया है. जमाबंदी तैयार करने के लिए पटवारी दोनों पक्षों के दो गवाहों का हस्ताक्षर लेता है.

Q. जमीन की खरीने में कितना खर्चा आता है?

जमीन खरीने के लिए कोई निश्चित खर्चा लागु नहीं किया गया है. कभी-कभी जमीन की खरीदारी 250 रूपए में भी हो जाता है. कभी इससे ज्यादा 2,500 रूपए लग जाते है. और कभी कभी फ्री में भी जमीन की खरीदारी हो जाती है जैसे किसी गरीब के नाम कोई व्यक्ति संपत्ति लिखित व दान करता है आदि.

Q. जमीन की खरीदारी कितने दिनों में होती है?

जमीन की खरीदारी 90 दिनों के समय पूर्ण होने के बाद होती है. क्यूँकि जमीन की खरीदारी रजिस्ट्रार ऑफिस में एक से दो दिन के अन्दर कर दी जाती है लेकिन दाखिल ख़ारिज पूर्ण करने में अगर दस्तावेज सभी है तो 30 से 45 दिनों का समय लगता है.

Q. जमीन खरीदने में कौन सा दस्तावेज लगता है?

पहचान के लिए आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट लगता है.
नॉन ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट: जमीन खरीदारी के समय एनओसी सर्टिफिकेट लेना पड़ता है.
जमीन का दस्तावेज के रूप में जमाबंदी, खतौनी, नकल और नक्शा का उपयोग किया जा सकता है.
दो गवाह: दो गवाहों के आधार कार्ड फोटो कॉपी व सभी विवरण जैसे नाम, गाँव, आदि.

Leave a Comment