खसरा खतौनी की नकल कैसे निकाले: ऐसे खसरा खतौनी निकाले मिनटों में

खसरा और खतौनी नंबर अक्सर भूमि संपत्ति के मलिक का प्रमुख दस्तावेज होती है. इसे भूमि की नगदी कार्य और सरकारी रिकॉर्ड के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है. खसरा और खतौनी संख्या में आप भूमि के मालिक, पेमेंट डिटेल और संपत्ति का संपूर्ण विवरण का पता लगा सकते हैं, इसलिए अगर कोई व्यक्ति भारत के ग्रामीण इलाके में भूमि संपत्ति के संबंधित किसी भी कार्य की जानकारी चाहते हैं, तो खसरा खतौनी नकल की जानकारी होना बहुत जरूरी है.

ज्यादातर व्यक्ति जमीन में निवेश करते हैं इसका मुख्य कारण है कि बढ़ते समय के साथ जमीन की मूल्य में बड़ी मात्रा में वृद्धि होती है, जिसे बेचकर बड़ी मात्रा में मुनाफा कमा सकते हैं. जमीन की खरीदी या बिक्री के दौरान ज्यादातर इस्तेमाल किए जाने वाले शब्द है खसरा खतौनी नंबर क्या है. इस पोस्ट में खसरा खतौनी नंबर कैसे निकाले या खसरा खतौनी की नकल कैसे देखे की प्रक्रिया स्टेप बाय स्टेप दिया गया है.

खतौनी खसरा नंबर क्या है?

खतौनी संख्या भूमि के मालिक के लिए एक पहचान होती है खतौनी एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है. क्योंकि, इससे भूमि के बारे में सभी विवरण को प्रमाणित करती है खतौनी संख्या से ग्रामीण के नाम से संबंधित जानकारी मिलती है. जहां जमीन स्थित है, जिले का नाम,आंचल का नाम, मौजा का नाम, खसरा संख्या ,खाता संख्या इत्यादि और साथ ही, जमीन के मालिक का नाम और जमीन मालिक के पिता का नाम, के बारे में सभी जानकारी मिलती है.

खसरा एक प्रकार का जमीन का नक्शा होता है जिसमें जमीन का विस्तार, सीमाएं और विवरण दर्ज होते हैं. खसरा संख्या एक जमीन की पहचान के रूप में कार्य करती है.

खसरा खतौनी की नकल कैसे निकाले

अगर आप भी जानना चाहते हैं की खसरा खतौनी की नकल कैसे निकले तो परेशान होने की जरूरत नहीं है. भारत के किसी भी राज्य के निवासी हैं और खसरा खतौनी की नकल कैसे निकाले के बारे में जानना चाहते हैं, तो अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर राज्य के आधिकारिक वेबसाइट को Open करें.

खेत, जमीन, भूखंड, plot, मकान, घर खरीदने पर खरीदार का कानूनी तौर पर मालिकाना हक प्राप्त करने के लिए राजस्व विभाग द्वारा रजिस्ट्रेशन, तहसील ऑफिस में पंजीकरण किया जाता है. और पंजीकरण प्रक्रिया सफलतापूर्वक पूर्ण हो जाती है, तो राजस्व विभाग द्वारा उस जमीन का रिकॉर्ड राज की ऑफिशल वेब पोर्टल पर अपलोड कर दिया जाता है.

खसरा खतौनी की नकल कैसे निकाले ऑनलाइन

  • खसरा खतौनी की नकल देखने के लिए सबसे पहले अपने मोबाइल या Computer पर अपने राज्य के ऑफिसियल वेबसाइट को ओपन करें.
  • Note: आप अपने राज्य के अनुसार अधिकारी वेबसाइट को ओपन कर सकते हैं.
  • उसके बाद होम स्क्रीन पर “रियल टाइम खतौनी की नकल देखें” विकल्प पर क्लिक करें.
Khasra Khatauni Nakal dekhe Online
  • क्लिक करने के बाद कैप्चा कोड को दर्ज करें.
  • अब जनपद चुने, तहसील चुने, ग्राम चुने विकल्प को सेलेक्ट करें और आगे बढ़े.
dekhe khasara khatauni online
  • इसके बाद आप खसरा खतौनी के नकल को देखने के लिए खसरा/गॉट संख्या द्वारा खोजें, खाता संख्या द्वारा खोजें, खाते के नाम द्वारा खोजें, नामांकन दिनांक से खोजे आदि में से किसी एक पर क्लिक करें.
  • Note खसरा खतौनी के नकल को देखने का सबसे अच्छा तरीका है “खातेदार का नाम द्वारा खोजें” पर क्लिक करें
  • खातेदार का नाम (जमीन के मालिक का नाम) को लिखने के बाद, नाम को सेलेक्ट करें.
  • इसके बाद उदारण देखें पर क्लिक करें.
khasara nakal dekhe
  • उपरोक्त प्रक्रिया पूरी होने बाद कैप्चा कोड दर्ज करें और Continue बटन पर क्लिक करें.
  • Continue बटन पर क्लिक करने के बाद एक नया पेज Open होगा.
  • नया पेज पर आपको खसरा खतौनी से संबंधित भुगतान पेज ओपन होगा. इस पेज पर खसरा खतौनी और उस जमीन से जुड़ी जानकारी उपलब्ध होगा.
  • इस प्रकार बहुत कम समय में ऑनलाइन खसरा खतौनी नकल पता कर सकते हैं.

खसरा खतौनी क्यों जरूरी है?

खसरा खतौनी संख्या एक जमीन के लिए निर्धारित की जाने वाली ID है. खसरा खतौनी जमीन मालिक मलिक के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि, ज्यादातर जमीन से जुड़ी जानकारी, सरकारी अधिकारियों के द्वारा बताई जाती है और खसरा खतौनी संख्या का पता होना बहुत जरूरी होता है साथ ही जमीन के लिए कानूनी परेशानी और किसी प्रकार के जमीन मे धोखाधड़ी से बचने में मदद करती है.

खसरा और खतौनी संख्या में क्या अंतर है?

खसरा में जमीन का रिकॉर्ड होता है जिसमें जमीन के विस्तार, स्थिति, विवरण, उपयोग मलिक की जानकारी होती है. वही खतौनी में जमीन के मालिक के बारे में जानकारी होती है जिसमें मलिक का नाम और उसके हिस्से की जानकारी होती है.

यह एक दस्तावेज होता है जिसमें जमीन की संपत्तिकर्ता और उपयोगकर्ता की पहचान होती है.
इन दोनों का उपयोग जमीन संबंधित विवादों या खरीदारी बिक्री के समय किया जाता है खसरा पी-द्वितीय रूप से बना है, जबकि खतौनी बीआई रूप से बना है जबकि पूर्व में 12 कॉलम है बाद वाले में 23 कॉलम है.

राज्यवार खसरा खतौनी नकल निकाले

राज्यलिंकराज्यलिंक
कर्नाटकक्लिक करेतमिलनाडुक्लिक करे
आंध्र प्रदेशक्लिक करे हरियाणाक्लिक करे
बिहारक्लिक करेहिमाचल प्रदेशक्लिक करे
झारखंडक्लिक करे दिल्लीक्लिक करे
गुजरातक्लिक करेमहाराष्ट्रक्लिक करे
पंजाबक्लिक करेपश्चिम बंगालक्लिक करे
राजस्थानक्लिक करे केरलक्लिक करे
तेलंगानाक्लिक करे असमक्लिक करे
उत्तराखंडक्लिक करे गोवाक्लिक करे
उत्तर प्रदेशक्लिक करेमणिपुरक्लिक करे
मध्य प्रदेशक्लिक करेछत्तीसगढ़क्लिक करे
उड़ीसाक्लिक करेXXX

इसे भी पढ़े,

खसरा खतौनी नकल कैसे निकाले से जुड़े प्रश्न: FQAs

Q. खसरा खतौनी की नकल कैसे देखें?

खसरा खतौनी की नकल देखने के लिए राज्य की ऑफिशल वेबसाइट https://upbhulekh.gov.in/ विजिट करें. खतौनी की नकल देखें विकल्प चुने. इसके बाद जनपद चुने, तहसील चुने, ग्राम चुने विकल्प को सेलेक्ट करें. इसके बाद आप खसरा नंबर ,खाता नंबर और खातेदार नाम (मलिक का नाम) को भरे. इस प्रकार आप कम समय में खसरा खतौनी का नकल निकाल सकते हैं

Q. खतौनी क्या है?

खतौनी संख्या उस जमीन के मालिक को जारी किया जाता है जिस पर खेती की जाती है. इसके अलावा खतौनी एक दस्तावेज है, जिससे भूमि के बारे में सभी जानकारी मिल जाती है.

Q. खतौनी नंबर कैसे प्राप्त करें?

खतौनी नंबर प्राप्त करने के लिए आप अपने तहसील या पंचायत के किसान सेवा केंद्र (CSC) जाएं. जहां पर आपको खतौनी नंबर की जानकारी प्राप्त करने में मदद मिल सकती है.

Q. जमीन के खाते की नकल कैसे निकाले?

अपने जमीन का नकल प्राप्त करने के लिए पहले अपने राज्य के अधिकारिक वेबसाइट पर जाए और नकल के विकल्प पर क्लिक कर मांगे गए सभी जानकारी डाले. अब सर्च के विकल्प पर क्लिक कर नकल डाउनलोड कर ले.

Leave a Comment