नाना की संपत्ति में अधिकार : जाने क्या है नियम

पहले के समय में पिता के संपत्ति पे केवल बेटा का अधिकार होता था, और बेटे ना होने पर संपत्ति भतीजे या भाई को मिलता था. लेकिन वर्तमान समय में ऐसा नही है. हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम 2005 के अनुसार नियम कानून को बाद दिया गया है. जिसके कारण पिता के संपत्ति में बेटी भी अपना अधिकार प्राप्त कर सकती है.

लेकिन अब यह भी प्रवधान किया गया है की विशेष अवस्था पिता के संपत्ति में बेटी के बच्चो का भी अधिकार होगा. इसलिए इस आर्टिकल में स्टेप by स्टेप पूरी जानकारी उपलब्ध किया गया है. जिसके माध्यम से यह जानकारी प्राप्त कर सकते है की नाना की संपत्ति में क्या अधिकार है.

पुश्तैनी संपत्ति में बेटों और बेटियों के उत्तराधिकार अधिकार

हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम एक भारतीय कानून है. जिसके अनुसार संपत्ति का बटवारा किया जाता है. इसलिए हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम 2005 में एक संशोधन किया गया है कि पुश्तैनी संपत्ति में बेटों के समान बेटियों को भी अधिकार दिया जाए. इस संशोधन से पहले, बेटियों को केवल एक चौथाई हिस्सा दिया जाता है.

लेकिन 2005 के संशोधन के अंतर्गत पुश्तैनी संपत्ति में में जितना अधिकार बेटा का होगा. उतना ही अधिकार बेटी को भी दिया जाएगा. बेटियों को पुश्तैनी संपत्ति में समान अधिकार देकर लैंगिक समानता को बढ़ावा दिया गया है. जिससे वे अपने परिवारिक यानि पैतृक संपति में बेटियों को समान रूप से भागीदारी कर सके.

नाना की संपत्ति में नाती का अधिकार

नाना की संपत्ति में नाती का अधिकार क्या होता है, यह प्रकिया थोडा जटिल हो सकता है, क्योकि या कई कारको पर निर्भर करता है. जो इस प्रकार है:

यदि नाना का मृतु 2005 से पहले हुआ है, तो हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, 1956 के अनुसार नाना की संपत्ति में बेटियों को कोई अधिकार नहीं था. जिसके कारण नाना की संपत्ति में नाती का कोई अधिकार नही है.

यदि नाना का मृतु 2005 या उसके बाद हुआ है, तो हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, 2005 के अनुसार बेटियों को भी बेटों के समान संपत्ति में अधिकार प्राप्त होता है. जिसके कारण नाना के संपत्ति में नाती का अधिकार होता है.

नाना की संपत्ति का प्रकार

संपत्ति दो प्रकार की होती है जो इस प्रकार है:

  • पैतृक संपत्ति
  • स्व-अर्जित संपत्ति

पैतृक संपत्ति: यदि नाना की पैतृक संपत्ति है तो हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, 1956 के अनुसार 2005 में किए गए संशोधन के अनुसार, नाना की पैतृक संपत्ति में बेटी का अधिकार, बेटों के समान अधिकार होता है. इसका मतलब है कि नाना की पैतृक संपत्ति में नाती या नतनी भी हिस्सेदारी की हकदार है.

स्व-अर्जित संपत्ति: यदि नाना के द्वारा खुद की कमाई हुए संपत्ति है तो वह अपनी मर्जी के अनुसार किसी को भी दे सकते है, चाहे वह वारिस हो या न हो. और यदि नाना ने अपने संपत्ति का वसीयत लिखी है, तो वसीयत के अनुसार संपत्ति को वितरण किया जाएगा.

नाना की संपत्ति में अधिकार लेने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातें

यदि आप अपने नाना की संपत्ति में अधिकार लेने के लिए सोच रहे है तो इसके निचे दिए गए गई कुछ महत्वपूर्ण बातो पर ध्यान अवश्य दे.

  • नाना की संपत्ति में नाती-नातिन का अधिकार तभी होता है जब उनके नाना के बच्चे न हो या जीवित न हों.
  • यदि नाना की संपत्ति को लेकर किसी प्रकार के विवाद होता है, तो वारिसों को कानूनी प्रक्रिया का पालन करना होगा.
  • यदि नाना ने वसीयत लिखी है, तो वसीयत के अनुसार संपत्ति का वितरण किया जाएगा.
  • अधिक जानकारी के लिए अपने नजदीकी वकील से सलाह ले सकते है.

इससे भी पढ़े,

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: FAQs

Q. कब बेटियों को पिता की संपत्ति में हिस्सा नहीं मिलता?

यदि संपत्ति पर किसी उपहति का आरोप होता है, जैसे किसी अपराध के लिए कार्रवाई के तहत, तो बेटी को पिता की संपत्ति पर हक नहीं मिल सकता है. या पिता की संपत्ति खुद की कमाई से अर्जित की है, और पिता ने अविय्त किसी और के नाम पर बनाया है तो बेटी को हिस्सा नही मिलता है.

Q. क्या एक विवाहित बेटी का अपने पिता की संपत्ति पर कोई अधिकार है?

हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, 1956 के अनुसार 2005 में किए गए संशोधन के अनुसार, बेटी को पिता के संपत्ति में बेटी का अधिकार, बेटों के समान अधिकार होता है.

Q. पिता की मृत्यु के बाद संपत्ति का मालिक कौन है?

भारतीय कानून के अनुसार यदि पिता के मृत्यु हो जाती है तो उसकी संपत्ति का मालिक उसके वंसज होते है. वंशजों में जैसे: बेटे, अविवाहित बेटियां, माता-पिता और पति-पत्नी आदि शामिल होते हैं

Leave a Comment